UP Sanskrit Lecture Exam Result

UP Sanskrit Lecture Exam Result 2016: उत्तर प्रदेश शिक्षा सेवा चयन बोर्ड ने संस्कृत प्रवक्ता की लिखित परीक्षा का परिणाम घोषित कर दिया। इसके लिए साक्षात्कार 16 अक्टूबर से हो सकता है।

UP Sanskrit Lecture Exam Result 2016: उत्तर प्रदेश शिक्षा सेवा चयन बोर्ड {UPSESSB} ने अनुदानित माध्यमिक विद्यालयों में संस्कृत प्रवक्ता के पदों पर भर्ती के लिए लिखित परीक्षा 2016 के परिणाम घोषित कर दिए हैं। इसके साथ ही चॉइस बोर्ड ने इंटरव्यू का शेड्यूल भी जारी कर दिया है। वे उम्मीदवार जो UPSESSB संस्कृत प्रवक्ता लिखित परीक्षा में उपस्थित हुए थे, वे अपना परिणाम बोर्ड की आधिकारिक वेबसाइट पर देख सकते हैं। UPSESSB संस्कृत प्रवक्ता लिखित परीक्षा 1 और फरवरी 2019 को जारी रखी गई थी। अब इसका परिणाम घोषित कर दिया गया है।

प्रवक्ता संस्कृत 2016 की भर्ती 16 से 22 अक्टूबर तक राजकीय सहायता प्राप्त माध्यमिक विद्यालयों में होने जा रही है। जिन उम्मीदवारों को लिखित परीक्षा के भीतर सफल घोषित किया गया है, वे आधिकारिक वेबसाइट पर अपने साक्षात्कार अनुसूची की जांच कर सकते हैं। लड़के की श्रेणी में 424 और लड़की के वर्ग में 52 उम्मीदवार साक्षात्कार के लिए चुने गए हैं।

उत्तर प्रदेश शिक्षा सेवा चयन बोर्ड के उप सचिव नवल किशोर ने कहा कि उम्मीदवारों की तिथि-वार साक्षात्कार सूची वेब साइट पर है। लिखित परीक्षा में सफल घोषित अभ्यर्थी पोर्टल पर उपस्थित हों और ऑनलाइन आवेदन के भीतर अभिलेख अपलोड करें। साथ ही, संस्था का चुनाव करें। फिर साक्षात्कार पत्र डाउनलोड करें। उम्मीदवारों को परिपक्वता और समय पर साक्षात्कार के पहले रिकॉर्ड के साथ उपस्थित होना चाहिए।

एलटी ग्रेड शिक्षक ने अदालत के आदेश पर घोषित परिणामों को स्वीकार किया

इलाहाबाद सर्वोच्च न्यायालय ने उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग को जीआईसी के भीतर चार सप्ताह में एलटी ग्रेड {एलटी ग्रेड शिक्षा भारती 2020} विज्ञान और हिंदी विषय शिक्षक भर्ती की घोषणा करने का आदेश दिया है। सर्वोच्च न्यायालय ने यह भी कहा कि याचिकाकर्ताओं को आयोग के समक्ष इस आदेश की प्रतिकृति प्रस्तुत करनी चाहिए और इसलिए आयोग को परिणाम घोषित करना चाहिए।

आपको बता दें कि वर्ष 2018 के भीतर राज्य के सरकारी इंटर कॉलेज {जीआईसी} के भीतर एलटी ग्रेड के शिक्षकों की भर्ती के लिए विज्ञापन जारी किया गया था। इसके तहत राज्य भर में एलटी ग्रेड शिक्षक परीक्षा आयोजित की गई थी। परीक्षा के दौरान ही धांधली की शिकायतें सामने आईं और इसलिए पूरी परीक्षा विवादों में घिर गई। इस मामले की जांच एसआईटी को सौंप दी गई थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *