Narendra Modi

प्रधानमंत्री ने कहा कि पहले दशहरे के त्योहार पर बड़े आयोजन होते रहे हैं, इसके आकर्षण पर भी विचार किया गया। लेकिन कोरोना संकट के भीतर, हमे संयम से काम लेना है और गरिमा में रहना है।

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज त्यौहारों के मौसम में देशवासियों से बाजार से खरीदारी के दौरान स्थानीय उत्पादों को प्राथमिकता देने का आग्रह किया, और उनसे आग्रह किया कि वे संयम बरतें और कोरोना वायरस के इस संकट के दौरान मर्यादा में रहें। अपने मासिक रेडियो कार्यक्रम ‘मन की बात’ में, प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने एक बार फिर देशवासियों को संबोधित किया। पीएम मोदी ने विजयदशमी पर्व की बधाई देकर कार्यक्रम के 70 वें संस्करण की शुरुआत की।

प्रधान मंत्री ने कहा कि दशहरा वह है जो असत्य पर सत्य की जीत का त्योहार है, इसलिए यह त्योहार संकटों पर विजय का उत्सव हो सकता है। उन्होंने कहा कि, दशहरे के शुभ अवसर पर, आप सभी या किसी को भी शुभकामनाएं। इससे पहले दशहरे के त्यौहार पर बड़े आयोजन हुए हैं, इसका आकर्षण भी माना जाता था। लेकिन कोरोना संकट के भीतर, हमें संयम के साथ आंकना है, गरिमा में रहना है।

‘वोकल फॉर लोकल का संदेश याद रखें’

पीएम मोदी ने फिर दोहराया कि “त्योहार का मौसम आ रहा है।” इस बिंदु के दौरान, लोग खरीदारी करेंगे, आप खरीदारी के दौरान ‘स्थानीय के लिए मुखर’ का संदेश याद रखना चाहते हैं और स्थानीय और स्वदेशी सामान पर ध्यान केंद्रित करना चाहते हैं। बाजार से सामान खरीदते समय स्थानीय उत्पादों को प्राथमिकता दें।

एक दीया सैनिको के नाम का जलाएं

पीएम मोदी ने देश के सैनिकों को भी विजयदशमी की बधाई देते हुए कहा कि इस बार दिवाली में एक दीया सीमा पर तैनात सैनिकों के नाम का जलाएं। पीएम ने कहा कि हमें अपने बहादुर सैनिकों को भी याद करना होगा, जो इन त्योहारों में भी सीमाओं पर डटे हुए हैं। वे भारत माता की सेवा और रक्षा करने में सक्षम हैं। हमें उन्हें हमेशा याद रखना चाहिए और त्योहार का रोमांच मनाना चाहिए। हमें उन बहादुर बेटों के नाम के भीतर एक दीपक जलाना है।

खादी को दुनिया में मिली पहचान

अपने संबोधन के दौरान पीएम मोदी ने खादी का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा कि खादी आज इको फ्रेडली फैब्रिक के रूप में पहचान बना रही है। प्रधान मंत्री ने कहा कि क्योंकि खादी की लोकप्रियता बढ़ती है, खादी ने दुनिया के भीतर भी एक पहचान बनाई है। मेक्सिको के एक क्षेत्र ‘ओहाका’ के बारे में, पीएम ने कहा कि इस क्षेत्र के दौरान कई गाँव हैं जहाँ स्थानीय ग्रामीण खादी बुनाई का काम करते हैं। पीएम मोदी ने दिल्ली की कनॉट प्लेट का भी जिक्र किया और कहा कि इस समय यहां खादी की दुकान में गांधी जयंती के दिन एक बराबर खरीदारी हुई थी, उन्होंने कहा कि खादी के मुखौटे भी काफी लोकप्रिय हो रहे हैं। उसने यूपी के बाराबंकी की कुछ महिलाओं को बताया, जिन्होंने पहले अपनी कई साथी महिलाओं के साथ मुखौटे बनाना शुरू किया था, लेकिन धीरे-धीरे अन्य महिलाएं भी उसमें शामिल हो गईं और आज वह हजारों खादी मुखौटे बना रही हैं।

हमे अपनी चीजों पर गर्व होना चाहिए

पीएम ने कहा कि मेरे प्यारे देशवासियों जब हमे अपनी चीजों पर गर्व होता है, तो दुनिया को भी उसमे उत्सुकता उत्पन्न होती है। पीएम ने कहा कि हमारी आध्यात्मिकता हमारे खेल जगत को आकर्षित कर रही है। मलखम ने दुनिया भर में ख्याति प्राप्त की है। मलखम ट्रेनिंग सेंटर अमेरिका में खोला गया है। जहां मलखम का पता लगाने के लिए काफी संख्या में बच्चे आ रहे हैं। यह जर्मनी, मलेशिया में भी काफी लोकप्रिय हो गया है और अब मलखम को लेक वर्ल्ड चैंपियनशिप दी गई है। पीएम ने कहा कि नई पीढ़ी मलखम में बातचीत नहीं कर रही है, उन्हें इसे वेब पर खोजना चाहिए। पीएम ने कहा कि देश की युवा पीढ़ी को मार्शल आर्ट सीखना चाहिए और इसका अध्ययन करना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *